ट्रेड वॉर की वजह से इतना महंगा हुआ सोना
सोने की कीमत इस साल करीब 16 फीसदी बढ़ी है और एक सप्ताह में ही 100 डॉलर की तेजी


नई दिल्ली : सोने की कीमत सर्वोच्च स्तर पर पहुंच गई है। घरेलू अर्थव्यवस्था में आई सुस्ती और चीन-अमेरिका ट्रेड वॉर की वजह से सोने में निवेशकों का रुझान बढ़ने से गुरुवार को दिल्ली सर्राफा बाजार में इसका भाव पहली बार प्रति 10 ग्राम 38,000 रुपये के आंकड़े को पार कर गया। सोने का भाव 550 रुपये के उछाल के साथ प्रति 10 ग्राम 38,470 रुपये दर्ज किया गया। 

औद्योगिक इकाइयों तथा सिक्का निर्माताओं द्वारा खरीदारी बढ़ाने के कारण चांदी भी प्रति किलोग्राम 44,000 रुपये के आंकड़े को पार कर गया। चांदी का भाव 630 रुपये उछलकर प्रति किलोग्राम 44,300 रुपये रहा। 

विश्लेषकों का कहना है कि अमेरिका तथा चीन के बीच ट्रेड वॉर की वजह से निवेशक सोने में निवेश की तरफ आकर्षित हुए हैं, जिसकी वजह से बुधवार को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर सोने का भाव प्रति औंस 1,500 डॉलर को पार कर गया। इसके अलावा, घरेलू अर्थव्यवस्था में आई सुस्ती से भी निवेशकों का सोने में रुझान बढ़ा है। सोने की कीमत इस साल करीब 16 फीसदी बढ़ी है और एक सप्ताह में ही करीब 100 डॉलर की तेजी आ गई है। विश्लेषकों का मानना है कि सोने की कीमत मीडियम टर्म में ऊंची ही रहने वाली है। 

वैश्विक स्तर पर न्यूयॉर्क में सोने का भाव मामूली नरमी के साथ 1,497.20 डॉलर प्रति औंस था, जबकि चांदी का भाव 17.16 डॉलर प्रति औंस था। अखिल भारतीय सर्राफा संगठन के मुताबिक, राष्ट्रीय राजधानी में 99.9 फीसदी तथा 99.5 फीसदी शुद्ध सोने की कीमत 550 रुपये उछलकर प्रति 10 ग्राम 38,470 रुपये तथा 38,300 रुपये रही। 

अधिक बिज़नेस की खबरें