फर्जी इनकम टैक्स रिफंड मेसेज से रहें सावधान, बैंक अकाउंट से चोरी हो सकते हैं पैसे
अगर आप इनकम टैक्स रिटर्न भरते हैं तो अब आपको थोड़ा सावधान रहने की जरूरत है।


नई दिल्ली : अगर आप इनकम टैक्स रिटर्न भरते हैं तो अब आपको थोड़ा सावधान रहने की जरूरत है। कंप्यूटर और मोबाइल प्रटेक्शन सॉफ्टवेयर बनाने वाली एक कंपनी ने कहा है कि आजकल इनकम टैक्स डिपार्टमेंट के फर्जी मेसेज काफी ज्यादा आ रहे हैं। ये मेसेज साइबर क्रमिनल्स द्वारा भेजे जा रहे हैं और इनसे ये जालसाज टेक्सपेयर के पैसों की चोरी कर रहे हैं।

रिफंड अमाउंट का देते हैं लालच
पुणे स्थित Quick Heal Technologies ने बताया कि साइबर क्रिमिनल्स बड़ी चालाकी से इस मेसेज को इनकम टैक्स डिपार्टमेंट का मेसेज बताकर टैक्सपेयर को बैंक डीटेल शेयर करने के लिए मना लेते हैं। यह मेसेज किसी को भी लुभा सकता है क्योंकि इसमें इनकम टैक्स द्वारा रिफंड किए जाने वाले अमाउंट का जिक्र होता है।

मांगते हैं सही बैंक डीटेल
मेसेज में एक गलत बैंक अकाउंट नंबर सेंड किया जा रहा है। मेसेज में दिया गया बैंक अकाउंट नंबर गलत होने के स्थिति में वहां दिए गए एक लिंक पर क्लिक करने को कहा जाता है। लिंक पर क्लिक करते ही एक फर्जी वेबसाइट खुलती है जिसका लेआउट और फॉन्ट बिल्कुल इनकम टैक्स डिपार्टमेंट की वेबसाइट जैसा है। क्विक हील ने बताया कि इस साइट पर टैक्सपेयर से उस लॉगइन डीटेल को एंटर करने के लिए कहा जाता है जिसे वह ऑरिजनल वेबसाइट पर लॉगइन करते हैं। ऐसा करने के तुरंत बाद ही सही बैंक अकाउंट एंटर करने को कहा जाता है।

फर्जी कॉल से रहें अलर्ट
सही बैंक अकाउंट मिलते ही जालसाज फर्जी आई-टी डिपार्टमेंट एम्प्लॉयी बनकर टैक्सपेयर को फोन करते हैं। ये जालसाज कॉल कर टैक्सपेयर को अनियमित आईटी रिटर्न का हवाला देते हुए फाइन भरने के लिए कहते हैं। इसके बाद बड़ी चालाकी से ये जालसाज आई-टी डिपार्टमेंट वेबसाइट के असली लॉगइन डीटेल के जरिए अपने शिकार के खाते से पैसों को अपने अकाउंट में ट्रांसफर कर लेते हैं। इतना ही नहीं ये साइबर क्रिमिनल अकाउंट की डीटेल जैसे फोन नंबर, ईमेल आईडी को भी बदल देते हैं।

कैसे रहें सतर्क
ऐसे फर्जी मेसेज को फोन के इनबॉक्स में आने से तो नहीं रोका जा सकता, लेकिन कुछ सावधानी बरत कर ऐसी ठगी से बचा जरूर जा सकता है। क्वीक हील ने बताया कि ऐसे मेसेज आने पर किसी भी टैक्सपेयर को अपनी फाइनैंशल डीटेल जैसे बैंक अकाउंट नंबर, पिन और ओटीपी बताते हुए रिप्लाइ नहीं कर चाहिए। ऐसे फर्जी मेसेज में दिए गए लिंक या किसी अटैचमेंट को भी तब तक ना क्लिक करें जब तक आप उस मेसेज के को लेकर कन्फर्म ना हो जाएं।

अधिक बिज़नेस की खबरें