टैग:UDAYPUR#,mentaldepression#yoga
मानसिक अवसाद एवं अनिद्रा के रोगियों के लिए औषधि है योगनिद्रा
तीन दिवसीय योगनिद्रा शिविर में प्रतिभागी सीख रहे तनाव दूर करने के गुर


उदयपुर: भारतीय संस्कृति अभ्युत्थान न्यास एवं आरोग्य भारती के संयुक्त तत्वावधान में मानसिक तनाव से मुक्ति के लिए अंतरराष्ट्रीय योग दिवस से शुरू हुए तीन दिवसीय योगनिद्रा शिविर में प्रतिभागी तनाव दूर करने के योग आधारित गुर सीख रहे हैं। 
उदयपुर के हिरण मगरी सेक्टर 4 स्थित विद्यानिकेतन सभागार में चल रहे इस शिविर में योगनिद्रा के विशेषज्ञ प्रशिक्षक श्रीवर्धन योगनिद्रा का महत्व बताते हुए विशेष योगाभ्यास करवा रहे हैं। योगाभ्यास के दौरान उन्होंने प्रतिभागियों को शरीर की शक्ति बढ़ाने के लिए कुछ सूक्ष्म योग एवं विभिन्न हस्त मुद्राओं द्वारा चिकित्सा की जानकारी भी प्रदान की। उन्होंने बताया कि मानसिक अवसाद एवं अनिद्रा के रोगियों के लिए योगनिद्रा एक औषधि का काम करती है। योगनिद्रा योग की वह शाखा है जिसमें बिना किसी श्रम के मानसिक संतुलन साधा जा सकता है। इस शिविर में सुबह के सत्र में विद्यार्थी और शाम के सत्र में आमजन भाग ले रहे हैं। 

श्रीवर्धन ने बताया कि तनाव के कारण मानव शरीर की मास्टर ग्रंथि पीयूष ग्रंथि पर सर्वाधिक प्रभाव पड़ता है जिससे बाकी सभी ग्रंथियां प्रभावित होती हैं। इसके चलते मनोदैहिक व्याधियां जैसे मधुमेह, हाई ब्लड प्रेशर, माइग्रेन, दमा, अनिद्रा, अल्सर, मानिसक अवसाद (डिप्रेशन) और कैंसर तक हो सकता है। इसकी मुक्ति का साधन है योगनिद्रा। इसीलिए योगनिद्रा पर आधारित अलग से शिविर आयोजित किया गया है। उन्होंने बताया कि योगनिद्रा से मांसपेशीय, भावनात्मक और मानसिक तनाव से सहज ही छुटकारा मिलता है। आज के घोर प्रतिस्पर्धा वाले युग में आगे बढ़ने के लिए मानसिक स्वास्थ्य का अच्छा होना अति आवश्यक है। यही वजह है कि योग दिनोंदिन लोकप्रिय होता जा रहा है। 

अधिक सेहत/एजुकेशन की खबरें