1984 का सिख दंगा कांग्रेस शासन के लिए विनाश का सबसे बड़ा उदाहरणः जेटली
जेटली ने आरोप लगाया कि आतंकवाद कांग्रेस की गलतियों के कारण फैला।


अमृतसर : केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कांग्रेस पर तीखा हमला करते हुए 1984 के सिख विरोधी दंगे को पार्टी के शासन के दौरान में देश में विनाश का सबसे बड़ा उदाहरण करार दिया। जेटली ने पंजाबी सूबा स्वर्ण जयंती के लिए आयोजित एक कार्यक्रम में कहा कि मैं कभी- कभी कहता हूं कि जब इतिहास लिखा जाएगा, 1984 को विनाश के साल के तौर पर जाना जाएगा.. जब कांग्रेस सत्ता में थी, जिस तरह का विनाश हमने देखा, 1984 उसके सबसे बड़े उदाहरणों में से था। 

जेटली ने आरोप लगाया कि आतंकवाद कांग्रेस की गलतियों के कारण फैला। उस समय पंजाब और पंजाबियों को सबसे अधिक प्रभाव झेलने पड़े। अरुण जेटली ने कहा कि सरकारों को बर्खास्त करना, आतंकवाद, लोकतंत्र को खतरे में डालना, सरकारों को उनका कार्यकाल पूरा नहीं करने देना, लोगों को सलाखों के पीछे डालना और देश पर 1984 का धब्बा लगाना उसके शासन का हिस्सा थे। उन्होंने कई तरह की मुश्किलों से सफलतापूर्वक लड़ने के लिए पंजाब और उसके लोगों की प्रशंसा की।


अधिक देश की खबरें