टैग:worldcup#,nujilandbeatsindia#,manchestar
ख़राब बल्लेबाजी,ओवर कॉन्फिडेंस की वजह से इंडिया हुई वर्ल्ड कप से बाहर
वर्ल्ड कप के लिए रवाना होने से पहले टीम इंडिया


आईसीसी वर्ल्ड कप 2019:  की शुरुआत से ही टीम इंडिया नंबर 4 पर बल्लेबाजी के लिए चेहरा तलाशती रही. यह खोज सेमीफाइनल तक पहुंचने के बाद भी खत्म नहीं हुई, इसका खामियाजा टीम इंडिया को हार के रूप में भुगतना पड़ा.

वर्ल्ड कप के लिए रवाना होने से पहले टीम इंडिया में नंबर चार पर बल्लेबाजी को लेकर काफी चर्चा हुई. इसके बाद चयनकर्ताओं ने विजय शंकर, दिनेश कार्तिक, लोकेश राहुल और केदार जाधव को चुना था. लेकिन ये सभी नाम इस वर्ल्ड कप में चार नंबर पर नाकाम रहे.

हालांकि, राहुल ने बांग्लादेश के खिलाफ अभ्यास मैच में चौथे नंबर पर खेलते हुए शतक जरूर जमाया था, लेकिन धवन के चोटिल होने के कारण उन्हें रोहित शर्मा के साथ पारी की शुरुआत करने की जिम्मेदारी दी गई.

वर्ल्ड कप में चार नंबर पर कोहली ने कई बल्लेबाजों को आजमाया लेकिन यह गुत्थी अभी भी सुलझ नहीं पाई है. टीम इंडिया के लिए वर्ल्ड के 9 मैचों में चार नंबर पर केएल राहुल, दिनेश कार्तिक, विजय शंकर, ऋषभ पंत और हार्दिक पंड्या तक ने बल्लेबाजी की, लेकिन किसी के भी खेल में निरंतरता नजर नहीं आई.

इस वजह से इंडिया हारी मैच 

मैनचेस्टर में खेले गए आईसीसी विश्व कप-2019 के पहले सेमीफाइनल में न्यूजीलैंड ने भारत को 18 रनों से हरा दिया। आपको बता दें कि भारतीय टीम जल्दबाजी और ओवरकॉन्फिडेन्स के चलते यहां हार का सामना करना पड़ा. जिसके चलते उसे वर्ल्ड कप से बाहर का रास्ता देखना पड़ा.


ख़राब मौसम के चलते यहां पिच में नमी के कारण बालरों को स्विंग का फायदा अधिक मिला जिसके चलते रोहित, विराट और केएल राहुल का सस्ते में आउट हो गए.

चार नम्बर पर बैटिंग करने उतरे ऋषभ पंत भी कुछ खास कमाल नहीं दिखा पाये और महज 32 रन बनाकर आउट हो गए. जिसके बाद हार्दिक पांड्या भी ज्यादा देर तक नहीं टिक पाए और गलत शॉट लगाने के चक्कर में पैवेलियन का रास्ता देखना पड़ा.

मध्यक्रम में बल्लेबाजी के लिए मशहूर धोनी और जडेजा ने भी भारत को जीत की दहलीज तक ले जाने में कोई कोर कसर ने छोड़ी। जिसके बाद 77 रनों की शानदार पारी खेलते हुए वह आउट हो गए.

अधिक खेल की खबरें