शराब पीते ही लोग क्यों बोलने लग जाते हैं अंग्रेजी? जानिए इसके पीछे की ये बड़ी वजह...

वैसे तो शराब पीना सेहत के लिए हानीकारक होता है। शराब का नशा ऐसा नशा होता है कि बड़े बड़े सेलिब्रेटी तक सड़कों पर आकर अजीबो गरीब हरकते करने लग जाते है। फिर तो समान्य आदमी की बात ही अलग है।

09-May-2021

लेखक की कलम से :  चुनावी मौसम में यूपी-बिहार बार्डर पर शराब माफियाओं की सरगर्मी तेज

लेखक की कलम से : चुनावी मौसम में यूपी-बिहार बार्डर पर शराब माफियाओं की सरगर्मी तेज

बिहार में शराब और हथियार दोनों की ही मांग तेज हुई तो यूपी के शराब माफिया मौके का फायदा उठाने के लिए मैदान में कूद पडे़।

26-Oct-2020

लेखक की कलम से : जम्मू-कश्मीर में नजरबंदी के बाद राजनीतिक सक्रियता  

लेखक की कलम से : जम्मू-कश्मीर में नजरबंदी के बाद राजनीतिक सक्रियता  

जम्मू-कश्मीर में अलगाववादी ताकतें सक्रिय हो गई हैं। उन्हें चीन और पाकिस्तान से बढ़ावा मिल रहा है। नेशनल कांफ्रेंस के नेता फारुक अब्दुल्ला के बयान कमोबेश यही संकेत देते हैं।

26-Oct-2020

लेखक की कलम से : भारत के ब्रांड एंबेसेडर ही बने रहे भारतवंशी तो बेहतर

लेखक की कलम से : भारत के ब्रांड एंबेसेडर ही बने रहे भारतवंशी तो बेहतर

न्यूजीलैंड के आम चुनाव में जैसिंडा आर्डर्न की लेबर पार्टी विजय रही है। उसे 49.1% वोट मिले हैं, जो कि करीब 64 संसद सीटों में तब्दील होंगे। 1946 के बाद से यह लेबर पार्टी का सबसे अच्छा प्रदर्शन है।

24-Oct-2020

 लेखक की कलम से : कश्मीर में खुराफात करने वालों बाज आओ

लेखक की कलम से : कश्मीर में खुराफात करने वालों बाज आओ

जम्मू-कश्मीर के नज़रबंद नेताओं ने रिहा होते ही फिर से अपनी पुरानी खुऱाफात चालू कर दी है। राज्य के पूर्व मुख्यमंत्रियों फारूख अब्दुल्ला, महबूबा मुफ़्ती, उमर अब्दुल्ला और जम्मू-कश्मीर पीपुल्स कॉन्फ़्रेंस, माकपा तथा जम्मू-कश्मीर अवामी नेशनल कॉन्फ़्रेंस के नेताओं ने हाल ही में यह मांग कर दी कि भारत सरकार राज्य के लोगों को वो सारे अधिकार फिर से वापस लौटाए जो पाँच अगस्त 2019 से पहले उनको हासिल थे। मतलब यह कि वे यह चाहते हैं कि संविधान के अनुच्छेद 370 की पुनः बहाली हो जो संसद के दोनों सदनों ने रद्द कर दिया है, ताकि ये मौज कर सकें।

20-Oct-2020

लेखक की कलम से : देश के बडे़ दलित नेताओं में गिने जाते थे पासवान

लेखक की कलम से : देश के बडे़ दलित नेताओं में गिने जाते थे पासवान

रामविलास पासवान के रूप में भारतीय राजनीति का और बड़ा दलित सितारा ‘बुझ’ गया। बिहार में पिछले आधे दशक से बाबू जगजीवन राम के बाद यदि कोई दलित चेहरा चमकता रहा, वो रामविलास पासवान ही थे।

09-Oct-2020

लेखक की कलम से : कब बिहार में टाटा, रिलायंस, इंफोसिस भी करेंगे निवेश

लेखक की कलम से : कब बिहार में टाटा, रिलायंस, इंफोसिस भी करेंगे निवेश

बिहार एक बार फिर से चुनावी समर के लिए तैयार है। राज्य में राजनीतिक माहौल गरमा गया है। नेताओं का जनसंपर्क अभियान जारी है । अब जल्दी ही वहां चुनावी सभाएं भी चालू हो जाएंगी।

08-Oct-2020

लेखक की कलम से : लाखों बिजली कर्मियों की हड़ताल से यूपी बदहाल

लेखक की कलम से : लाखों बिजली कर्मियों की हड़ताल से यूपी बदहाल

निजीकरण के विरोध में करीब 15 लाख बिजली कर्मियों की अनिश्चित कालीन हड़ताल ने योगी सरकार को हिला कर रख दिया है। इन कर्मचारियों में जूनियर इंजीनियर, उप-विभागीय अधिकारी, कार्यकारी इंजीनियर और अधीक्षण अभियंता शामिल हैं। बिजली कर्मचारियों ने चेतावनी दी है कि अगर पूर्वांचल विद्युत वितरण निगम के निजीकरण के फैसले को वापस नहीं लिया तो बिजली कर्मी अपना आंदोलन और तेज करेंगे।

06-Oct-2020

लेखक की कलम से : औवेसी जी, अब तो बंद करो कोर्ट का अनादर करना

लेखक की कलम से : औवेसी जी, अब तो बंद करो कोर्ट का अनादर करना

कथित बाबरी मस्जिद विध्वंस मामले में सीबीआई कोर्ट के फैसले के बाद फिर से उम्मीद के मुताबिक ही कुछ सेक्युलरवादी और कठमुल्ले विरोध जता रहे हैं।

02-Oct-2020

लेखक की कलम से : मोदी सरकार का नया संकट,कोरोना काल में बढ़ी बेरोजगारी

लेखक की कलम से : मोदी सरकार का नया संकट,कोरोना काल में बढ़ी बेरोजगारी

एक तरफ केन्द्र की मोदी सरकार निजीकरण की ओर बढ़ रही है तो दूसरी ओर उस पर इस बात का दबाव है कि वह युवाओं के लिए अधिक से अधिक सरकारी नौकरियों की व्यवस्था करे।

27-Sep-2020

तो क्या ये मीडिया के अंत की शुरुवात है....

तो क्या ये मीडिया के अंत की शुरुवात है....

भारत मे आज के प्रतिष्ठित चैनल न तो सरकार की कमियों पर बात करना चाहते है और न ही आम जनमानस के हितों से जुड़े मुद्दों को उठाना चाहते फिर हम इन्हें क्यो देखें, क्यो इन्हें देखने के अपना समय बर्बाद करें यही कारण कि न्यूज चैनल देखना मैंने बंद कर दिया।

24-Sep-2020

सोशल मीडिया पर #Couplechallenge  क्यों हो रहा है ट्रेंड?

सोशल मीडिया पर #Couplechallenge क्यों हो रहा है ट्रेंड?

डिजिटल प्लेटफार्म पर अक्सर कोई ना कोई चैलेंज शुरू होता है और ये तेजी से वायरल भी होने लगते हैं. कोरोनाकाल में सोशल मीडिया पर ऐसे कई ट्रेंड्स देखने को मिले हैं

24-Sep-2020

लेखक की कलम से : योगी फिल्म सिटी बनाएं, ‘यूपी बनाम महाराष्ट्र’ नहीं

लेखक की कलम से : योगी फिल्म सिटी बनाएं, ‘यूपी बनाम महाराष्ट्र’ नहीं

उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने उस मुम्बई को आइना दिखा दिया है जो बाॅलीबुड के चलते इतराया करता है। बाॅलीबुड की पहचान हिन्दी फिल्मों से जुड़ी है। बाॅलीबुड में करीब 80 प्रतिशत कलाकार, लेखक, निर्देशक, गीतकार, संगीतकार,टेक्नीशियन और अन्य स्टाफ उत्तर भारत से आकर अपनी किस्मत अजमाता है।  

24-Sep-2020

लेखक की कलम से : राष्ट्रीय सुरक्षा से ऊपर नहीं पत्रकार

लेखक की कलम से : राष्ट्रीय सुरक्षा से ऊपर नहीं पत्रकार

चीन के लिए जासूसी के आरोप में गिरफ्तार वरिष्ठ पत्रकार राजीव शर्मा की गिरफ्तारी ने इस ज्वलंत बहस को जन्म दे दिया है कि क्या पत्रकारों को कुछ भी करने की छूट मिली हुई है?

24-Sep-2020

लेखक की कलम से : देश विरोधी छवि के चलते अलग-थलग पड़ती कांग्रेस

लेखक की कलम से : देश विरोधी छवि के चलते अलग-थलग पड़ती कांग्रेस

उत्तर प्रदेश में मुस्लिम वोट बैंक को समाजवादी पार्टी का मजबूत आधार माना जाता है। मुसलमान जब तक कांगे्रस के साथ रहे तब तक यूपी में कांगे्रस की तूती बोलती रही, लेकिन अयोध्या विवाद के चलते कांगे्रस से मुसलमान और हिन्दू दोनों खिसक गए,जिसके चलते यूपी में कांगे्रस तीस वर्षो से सत्ता का वनवास झेल रही है।

22-Sep-2020