मौत के डर से जवानी में युवा कर रहे ऐसा काम, जानकर होगी हैरानी!
कॉन्सेप्ट फोटो



रिपोर्ट :- वैभव तिवारी , लखनऊ

वुहान : पिछले साल 2020 में चीन के वुहान शहर से ही कोरोना वायरस का इजात हुआ था, इसके बाद इसका प्रकोप पूरी दुनिया मे फैल चुका है, आज चीन के वुहान में कोरोना का डर कुछ इस प्रकार फैल चुका है, की वहां के युवा अपनी मौत को ले कर इतना खौफ में जी रहे है, की वह अभी से ही अपनी वसीहत बनवाने में लग गए है। चाइनीज़ रजिस्ट्रेशन सेन्टर से मिली एक रिपोर्ट में ये बात सामने आई है, की कोरोना वायरस महामारी के कारण वहां के युवाओं में मौत का डर बढ़ता जा रहा है, यही कारण है कि वहां के युवा अभी से ही अपने परिवार के लिए वसीहत की तैयारी में लग गए है, और यहां तक कि अपनी खुद की अधिक इच्छाशक्ति के साथ वसीहत को बनवा रहे है।

 चाइनीस रजिस्ट्रेशन सेंटर से मिली रिपोर्ट के आधार पर ये मालूम चला है, की साल 2019 से 2020 के बीच उन युवाओं की गिनती में इजाफा हुआ है जो 1990 के बाद पैदा हुए है, और अपनी वसीहत को तैयार करवा रहे है, पिछले अगस्त के मुकाबले देखा जाए, तो इसमें इजाफा काफी ज्यादा हुआ है, की युवा अपनी वसीहत बनवा रहे है। और वह सभी चीनी युवा अपनी घर की और संपत्ति की व्यवस्था के लिए ऐसी सलाह ले रहे है। 

SCMP के द्वारा मिले एक लेख, से ये मालूम चला है, चीन के ज़्यादातर युवा आज कल मौत की बातें और मौत के बाद क्या होगा, इस तरह की बातें करना काफी आम सा हो गया है, लोगों की चर्चा का विषय अब सिर्फ उनकी मौत के इर्द गिर्द ही घुमा करता है, अभी हाल ही में मालूम चला था, की एक 18 वर्ष का एक युवा शंघाई के एक सेन्टर पहुचा था और अपने 20,000 युआन की संपत्ति को वसीहत में दबदील करने के विषय मे बात करने आया था। उस युवक ने कहा कि वह अपनी संपत्ति और बचाये हुए पैसों की वसीहत बनवा कर अपने दोस्त को देना चाहता है, क्योंकि उसके दोस्त ने उसका बुरे समय मे साथ दिया था, और बताया जा रहा है कि कम से कम 80 प्रतिशत ऐसे युवा मौजूद है जो कि अपनी इच्छा से अपनी संपत्ति को अपने दोस्तों को दे रहे है। 


कम से कम 70 प्रतिशत एसेट्स को वसीहत में बनवा रहे है। चाइना विल आर्गेनाईजेशन ने बताया है कि, कोरोना वायरस की महामारी के बाद से युवा अपनी मौत के बारे में सोचने लगे है, महामारी के दौरान युवा अपनी मौत के बारे में सोचने लगे है, और वह सोचते है, की उनके मरने के बाद उनके परिवार या उनके माता पिता को कौन पालेगा, या उनकी प्रॉपर्टी का क्या होगा, या उनके बच्चों की देख भाल कौन करेगा। आप को बता दें कि चीन में 18 साल के बाद एक युवक अपनी वसीहत बनवा सकता है, और 16 साल के बाद एक युवक अपनी कमाई का ज़रिया खुद बन सकता है।

(देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते है)

अधिक जरा हटके की खबरें