भारतीय रेलवे ने कम दूरी की ट्रेनों का बढ़ गया किराया, अब लगेगा इतना
फाइल फोटो



वैभव तिवारी, लखनऊ

भारतीय रेलवे ने कम दूरी की ट्रेनों का किराया बढ़ाकर दोगुना किया है, सरकार का मानना है कि इससे भीड़ कम हो जाएगी। भारत देश में रेलवे से हर रोज़ लगभग 2.3 करोड़ लोग सफर करते है, इस देश में लगभग 1 billion मेट्रिक टन का सामान पूरे देश भर में एक कोने से दूसरे कोने पहुचाया जाता है। 

रेलवे एक बहोत बड़ा नेटवर्क है, इस देश मे सरकारी नौकरियों में रेलवे सबसे ज़्यादा रिक्रूटमेंट करता है, हमारे देश मे देश का बजट अलग और रेलवे का बजट अलग से तैयार किया जाता है, क्योंकि रेलवे एक बहोत बड़ा नेटवर्क है। हर रोज़ 12,617 ट्रेनें रोज़ भारत में चलती है जिसमे 2.3 करोड़ लोग रोज़ सफर करते है, इतनी तो ऑस्ट्रेलिया देश की पूरी की पूरी आबादी है। और ये 12,617 ट्रेनें हमारे 7,172 रेलवे स्टेशन्स को जोड़ती है, और ये तो बस यात्रा वाली गाड़ियों का आंकड़ा है। 7,421 तो माल गाड़ियां चलती है जी 3 million tonnes का सामान हर रोज़ पूरे देश भर में पहुचाती है।

 सरकार का कम दूरी के सफर के किराए को दोगुना करने की वजह

सरकार के इस निर्णय में दूर ट्रैन से सफर करने वालों को इस बात की चिंता करने की ज़रूरत नही है, ये नया कानून सिर्फ उन्न लोगों के लिए है जो छोटे छोटे कस्बों से शहर का सफर करते है, जैसे उन्नाव से लखनऊ आने वाले लोग या अयोध्या से सुल्तानपुर , या गोंडा सफर करने वालों के लिये है।


सरकार ने ऐसा निर्णय ट्रैन में बढ़ती हुई भीड़ को मद्दे नज़र रखते हुए किया है, वो इसलिए क्योंकि पहले ज़्यादातर लोग कम किराए के चक्कर मे बिना फ़िज़ूल या बिना किसी काम के बस मज़े के लिए सफर करते थे। इस वजह से जो काम से सफर कर रहे होते थे लोग ,उनको दिक्कत का सामना करना होता था, या उनको ट्रैन में जगह नही मिलती थी ।

कोरोना काल के दौरान social distancing का पालन करना बहोत ज़रूरी है। ऐसे में लोग जब बे फज़ूल सफर नही करेंगे तो ट्रैन में भीड़ भी कम हुआ करेगी। और कोरोना महामारी फैलने से भी रोकने में काफी कारगर होगा।

(देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते है)

अधिक बिज़नेस की खबरें