दीपिका पादुकोण ने सुनाई दर्द भरी दास्तान!
फाइल फोटो


बॉलीवुड एक्ट्रेस दीपिका पादुकोण ने अपनी जिंदगी से जुड़े बुरे वक्त को एक वॉयस चैट रूम के जरिये साझा किया है। उन्होंने कहा कि जिंदगी के बुरे वक्त में जब लगा था कि कोई नहीं है तब उनकी मां ने सपोर्ट किया था। अपने डिप्रेशन के दौर को याद करते हुए दीपिका ने बताया कि कैसे मां ने संभाला था बिना कहे ही उनकी बातों को समझ गई थी।

दीपिका ने कहा कि उस दौर में वह अंदर से टूट गई थी. लेकिन उस दौर में किसी और ने नहीं बल्कि उनकी मां ने इस प्रॉब्लम को समझा और संभाला. उस दौर के बारे में बात करते हुए दीपिका ने कहा, 'मेरी मां उज्जवला पादुकोण मेरे रोने के तरीका से समझ गई थी कि यह काम का स्ट्रेस या नॉर्मल बॉयफ्रेंड इश्यू और ब्रेकअप से से ज्यादा बड़ी मुसीबत में हैं.'

मेरी मां मुझे रोता देख सब कुछ समझ गई थी. वह जान चुकी थी कि मैं किसी मुसीबत में हूं. इसलिए मां ने मुझसे पूछा कि क्या हुआ? लेकिन मैं नहीं बता सकी. लेकिन मेरी मां का अनुभव और प्रिजेंस ऑफ़ माइंड ही था, जिसकी वजह से मैं इस प्रॉब्लम से निकल सकी.'


दीपिका पादुकोण वैसे तो आए दिन मेंटल हेल्थ और डिप्रेशन को लेकर खुलकर बात करती रहती हैं. लेकिन इस बार जैसे उनका दर्द फिर छलक आया और वह इमोशनल हो गईं. 'वॉयस चैट रूम' सेशन के बीच दीपिका ने जानकारी दी कि मेरा डिप्रेशन फरवरी 2014 में शुरू हुआ था. मेरी जिंदगी का यह एक ऐसा दौर था जब मैं अंदर से बिल्कुल टूट चुकी थी. ऐसा लग रहा था कि जिंदगी का कोई मतलब ही नहीं है. फिजिकली और मेंटली दोनों तरह से कमजोर पड़ रही थी

(देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते है)

अधिक मनोरंजन की खबरें