कोरोना वायरस : ईरान, इटली में फंसे 400 भारतीयों की वतन वापसी
विदेश मंत्री ने ईरानी अधिकारियों को भी धन्यवाद कहा.


सरकार ने कोरोना से पीड़ित देशों में फंसे भारतीय को निकालने के लिए हरसंभव प्रयास कर रही है. भारत में भी कोरोना वायरस के 100 से ज्यादा मरीज मिले हैं. 


चीन के बाद इटली और ईरान में कोरोना के कहर से दुनिया के कई देश खौफ में हैं. इन देशों में फंसे भारतीयों को स्वदेश वापसी के लिए प्रयास किये जा रहे हैं. इस कड़ी में इटली और ईरान से 400 से ज्यादा लोगों को विशेष विमानों द्वारा भारत लाया गया है.


विदेश मंत्री एस जयशंकर ने रविवार को बताया कि कोरोनो वायरस प्रभावित ईरान में फंसे 234 भारतीय अपने देश वापस पहुंच गए हैं. स्वदेश पहुंचे इस बैच में 131 छात्र और 103 तीर्थयात्री शामिल हैं. इसके अलावा जयशंकर ने बताया कि ईरान में फंसे 234 भारतीयों को वापस लाया गया है जिनमें छात्र और तीर्थयात्री शामिल हैं.


'मिशन एयरलिफ्ट' पूरा होने के बाद एस जयशंकर ने ट्वीट कर ईरानी राजदूत धामू गद्दाम और इस अभियान से जुड़े पूरी टीम को धन्यवाद दिया. विदेश मंत्री ने ईरानी अधिकारियों को भी धन्यवाद कहा. रविवार को भारतीयों का तीसरा बैच ईरान से स्वदेश लौट आया है. इससे पहले शुक्रवार को दूसरा बैच भारत आया था. साथ ही इटली में फंसे 218 लोगों का दल सकुशल भारत पहुंचा है.


बताया जा रहा है कि चीन के बाद ईरान ही ऐसा देश है जो कोरोना वायरस पीड़ित है. ईरान में कोरोना वायरस गंभीर स्तर पर फैल गई है और अब तक 5 सौ से ज्यादा लोगों की मौत हो गई है. इससे पहले शुक्रवार को ईरान में फंसे 44 भारतीय नागरिकों को बचाया गया और उन्हें मुंबई के घाटकोपर लाया गया है. सभी को निगरानी में रखा गया है. ईरान में करीब 6 हजार भारतीय फंसे हुए हैं.

(देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं)


अधिक देश की खबरें