नहीं कम होगी आपकी EMI, रेपो रेट 4 फीसदी पर बरकरार
आरबीआई गवर्नर शक्तिकांत दास ने कहा कि अप्रैल- जून तिमाही में अर्थव्यवस्था में आई गिरावट अब पीछे रह गयी है


नई दिल्ली: आरबीआई गवर्नर शक्तिकांत दास ने कहा कि अप्रैल- जून तिमाही में अर्थव्यवस्था में आई गिरावट अब पीछे रह गयी है और अर्थव्यवस्था में उम्मीद की किरण दिखने लगी है। मुद्रास्फीति भी 2020-21 की चौथी तिमाही में कम होकर तय लक्ष्य के दायरे में आ सकती है। इस दौरान दास ने यह भी कहा कि चालू वित्त वर्ष में अर्थव्यवस्था में 9.5 फीसदी की गिरावट आ सकती है। 


रेपो रेट में बदलाव न होने का मतलब ये हुआ कि ईएमआई या लोन की ब्याज दरों पर नई राहत नहीं मिलेगी। रेपो रेट में कुछ बदलाव होगा, इस बात की उम्मीद पहले से भी कम थी। अगस्त में भी पॉलिसी रेट में कोई बदलाव नहीं हुआ था। हालांकि फरवरी 2019 से अब तक रेपो रेट में 2.50 फीसदी की बड़ी कटौती हो चुकी है।

 (देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते है)





अधिक बिज़नेस की खबरें