Bombay High Court से कंगना को मिली बड़ी जीत, BMC को लगाई कड़ी फटकार, देना होगा तोड़फोड़ का हर्जाना 
अभिनेत्री कंगना ​रनौत​ (file photo)


मुंबई​ : बॉलीवुड अभिनेत्री कंगना रनौत​ के लिए राहत भरी खबर है. बॉम्बे हाई कोर्ट ​में मुंबई महानगर पालिका (BMC) की कार्रवाई के विरुद्ध कंगना रनौत​ ​की ​ओर से  दायर याचिका को स्वीकार कर लिया​ गया​ है. इसके साथ ही अदालत ने कंगना ​​रनौत​ ​के दफ्तर पर हुई तोड़क कार्रवाई को गलत ​ठहराते हुए बीएमसी को फटकार लगाते हुए कोर्ट ने कंगना के दफ्तर ​के निर्माण जायज बताया है.

बदले की भावना से हुई कार्रवाई?
​वहीं ​बॉम्बे हाई कोर्ट ने कहा है, सामना में छपे लेख से प्रतीत होता है कि कंगना द्वारा मुंबई को POK जैसा बताने के बाद यह कार्रवाई हुई है. राज्य सरकार को ऐसे गैर जिम्मेदारान बयानों को नजर अंदाज करना चाहिए. प्रशासन की तरफ से बंगला तोड़ना गलत भावना के तहत कार्रवाई प्रतीत होती है. कंगना की याचिका को स्वीकारते हुए कोर्ट ने कहा, कंगना याचिकाकर्ता रहने योग्य निर्माण कार्य कर सकती हैं.

नुकसान की होगी भरपाई?
अदालत ने मुम्बई महानगर पालिका के नोटिस को रद्द कर दिया है. इसके साथ ही शिकायत और कार्रवाई के मूल्यांकन के लिए 3 महीने का समय दिया गया है. अदालत ने कहा है, अगर कोई अवैध निर्माण कार्य हुआ है तो कार्रवाई से पहले महानगर पालिका 7 दिन का नोटिस दे. 

कंगना बोलीं ये लोकतंत्र की जीत
अदालत ​का फैसला आने के बाद अभिनेत्री कंगना रनौत ने ट्वीट किया है. कंगना रनौत ने कहा है, 'जब कोई सरकार के खिलाफ खड़ा होता है तो ये उसकी अकेले की जीत नहीं है बल्कि लोकतंत्र की जीत है. उन सबका धन्यवाद जो मेरे साथ खड़े रहे. उनका भी धन्यवाद जो मेरे सपने टूटने पर हंसे और विलेन बने. वो विलेन बने इसीलिए मैं हीरो बन पाई.'



अधिक मनोरंजन की खबरें