उन्नाव केस: परिजनों ने की CBI जांच की मांग, मृतका की भाभी बोलीं- परिवार नहीं है सुरक्षित
गांव के भीतर मीडिया के आने-जाने पर रोक. 


उन्नाव : उत्तर प्रदेश के उन्नाव जिले के असोहा थाना क्षेत्र के बबुरहा में जानवरों के लिए चारा लेने गई तीन किशोरियों में 2 की संदिग्ध हालात में मौत का मामला तूल पकड़ने लगा है. इस मामले में पीड़ित परिवार ने सीबीआई जांच की मांग की है. मृतक लड़कियों की भाभी ने कहा है कि उनके परिवार अभी सुरक्षित नहीं है. मृतका की भाभी के मुताबिक सब कुछ साफ़ हो, इसके लिए सीबीआई जांच जरूरी है.


उधर लड़कियों के पोस्टमार्टम के लिये 3 डॉक्टरों का पैनल बनाया गया जो पोस्टमार्टम के बाद रिपोर्ट भेजेगा. गौरतलब है कि तीन डॉक्टरों का ये पैनल वीडियोग्राफी में पोस्टमॉर्टम करेगा. पोस्टमॉर्टम हाउस के बाहर भारी संख्या में पुलिस बल को तैनात किया गया है. वहीं बबूरहा गांव को भी छावनी में तब्दील कर दिया गया है. साथ ही मीडिया के आने-जाने पर प्रतिबंध लगाया गया है. दूसरी तरफ उन्नाव पुलिस लड़कियों के बाबा को घटनास्थल पर लेकर पहुंची है. उनसे घटना की जानकारी ली जा रही है. बता दें एक ही परिवार की 3 लड़कियां सरसों के खेत में गंभीर हालत में पड़ी मिली थीं.

ये है पूरा मामला
उन्नाव के असोहा थाना क्षेत्र के अंतर्गत ग्राम पंचायत पाठकपुर के मजरे बबुरहा में दोपहर के करीब कोमल पुत्री संतोष पासी उम्र 16 वर्ष, काजल पुत्री सूरजपाल पासी उम्र लगभग 13 वर्ष, रोशनी पुत्री सूर्य बली उम्र लगभग 17 वर्ष बबुरहा नाला के पास खेत में पशुओं के लिए हरा चारा लेने गई थी. देर शाम तक घर नहीं लौटने पर परिजनों ने इनकी खोजबीन शुरू की. उन्हें तीनों लड़कियां खेत में कपड़े से बंधी मरणासन्न हालत में मिलीं. परिजनों ने आनन-फानन में तीन लड़कियों सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र असोहा ले गए, जहां पर डॉक्टरों ने कोमल व काजल को मृत घोषित कर दिया. वहीं रोशनी को जिला अस्पताल रेफर कर दिया गया, जहां उसकी हालत गंभीर देखते हुए डॉक्टरों ने रोशनी को कानपुर के हैलट अस्पताल के लिए रेफर कर दिया.

घटना की जानकारी मिलते ही एसपी आनन्द कुलकर्णी, एडिशनल एसपी विनोद कुमार पांडेय, सीओ भारी फोर्स के साथ मौके पर पहुंचे. पुलिस अधिकारियों ने घटनास्थल का निरीक्षण किया. रोशनी के भाई विशाल ने बताया कि आपस में तीनों चचेरी बहन हैं. भाई ने किसी तरह की रंजिश से इंकार किया है.



अधिक राज्य/उत्तर प्रदेश की खबरें