उन्नाव : पिपरमेंट कारोबारी की हत्या के मामले में भाई की तहरीर पर मामला दर्ज
कप्तान ने डॉग स्क्वायड के साथ घटनास्थल का किया बारीकी से निरीक्षण


उन्नाव : उत्तर प्रदेश के उन्नाव जिले के बांगरमऊ में बीते दिन नगर में एक पिपरमिंट तेल कारोबारी का शव बरामद हुआ था जिसके बाद भाई की तहरीर पर हत्या का मामला दर्ज कर लिया गया है। देर रात मौके पर पहुंचकर पुलिस अधीक्षक द्वारा डॉग के साथ बारीकी से घटनास्थल का निरीक्षण किया गया आज पोस्टमार्टम के बाद मृतक के शव का अंतिम संस्कार कर दिया गया हत्या के बाद तनाव को देखते हुए कई थानों की पुलिस फोर्स नगर के प्रमुख जगहों पर लगी रही

जानकारी के अनुसार नगर के मोहल्ला हटिया निवासी सतीश गुप्ता उर्फ टेकई पुत्र राधा किशन का नगर के माढापुर मार्ग पर मकान और दुकान है। इन्ही दुकानों में बजरंग ट्रेडर्स के नाम से सतीश का प्रतिष्ठान है। वह क्षेत्रीय किसानों से पिपरमेंट का तेल खरीद कर कानपुर और लखनऊ में बेचने का काम करता था। सतीश के भाई अनीश गुप्ता के मुताबिक सुबह अपनी दुकान जाता था और शाम को 6 बजे वह दुकान से घर वापस लौटता था। किंतु बीते बुधवार को सतीश शाम को काफी देर बाद भी घर नहीं लौटा। तो परिजनों ने उसके मोबाइल पर फोन किया तो  मोबाइल बंद था। फोन बंद होने के चलते अनीश प्रतिष्ठान पर पहुंचा तो सतीश वहाँ नही मिला गोलक खुली पड़ी थी। 

गोलक से नकदी गायब थी। तब अनीश नीचे बेसमेंट में गया। जहां उसका भाई लहूलुहान पड़ा था। उसके गले मे पड़ी सोने की चेन और उंगलियों से अंगूठी गायब थी। यह देख अनीस के पैरों तले जमीन खिसक गई। सतीश के सिर में पीछे से गोली मारी गई थी और हाथ पैर में भी गंभीर चोटें थी। आनन-फानन उसे सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र ले गया। जहां चिकित्सकों ने सतीश 45 वर्ष को मृत घोषित कर दिया। घटना के बाद परिजनों में कोहराम मच गया। पत्नी सोनी और पुत्र मोहित का रो रो कर बुरा हाल है। अनीश गुप्ता ने घटना की तहरीर कोतवाली में दी। 

पुलिस ने तहरीर के आधार पर मुकदमा दर्ज कर शव पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। सूचना मिलते ही पुलिस अधीक्षक आनंद राव कुलकर्णी, अपर पुलिस अधीक्षक सचिव शेखर व क्षेत्राधिकारी संतोष कुमार भारी पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंच गए और घटनास्थल का बारीकी से निरीक्षण किया। घटना स्थल पर पँहुचे फील्ड यूनिट और खोजी कुत्ता भी कोई क्लू नही दे सका।

अपर पुलिस अधीक्षक शशि शेखर ने बताया कि घटना के खुलासे के लिए सीओ के नेतृत्व में 5 टीमों का गठन किया गया है शीघ्र ही घटना का खुलासा होगा  और हत्यारों को जेल भेजा जाएगा।


अधिक राज्य/उत्तर प्रदेश की खबरें