अखिलेश की नजरों में 'इन लोगो' को मिलना चहिये भूतपूर्व मुख्यमंत्रियों का आवास
File Photo


लखनऊ, समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने पूर्व मुख्यमंत्रियों के खाली किए सरकारी बंगलों को लेकर योगी सरकार को सुझाव दिया है. अखिलेश यादव ने ट्वीट कर कहा है कि इन आवासों को उच्च न्यायालय के न्यायमूर्तियों का आवास बनाकर, सरकार को इन आवासों का गौरवपूर्ण उपयोग करना चाहिए.


बता दें सरकारी बंगला खाली करने को लेकर अखिलेश यादव विवादों में घिरे हुए हैं. पहले उन्होंने बंगला खाली करने के लिए दो साल का समय मांगा. मांग नहीं मानी गई तो अखिलेश ने बंगला खाली कर दिया गया. लेकिन इसके बाद राज्य संपत्ति विभाग ने जब बंगले पर कब्जा लिया तो पता चला कि बंगले में तोड़फोड़ कर उसे बुरी तरह क्षतिग्रस्त कर दिया गया है. मामले ने तूल पकड़ लिया तो खुद राज्यपाल ​राम नाईक ने इसे गंभीर मसला मानते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को पूरी जांच कराने की चिट्ठी लिखी.

उधर खुद अखिलेश यादव ने सरकारी बंगले में तोड़फोड़ के आरोपों को राजनीतिक साजिश करार दिया. उन्होंने कहा कि बंगले में जो उनकी चीजें थीं, वह उन्हें ले गए हैं. अगर सरकार को लगता है कि कुछ गायब हुआ है तो वह उसका सबूत दे. अखिलेश ने मामले में आरोप लगाया कि योगी सरकार राजनीतिक द्वेष की भावना से ऐसा कर रही है.

राज्यपाल की सीएम योगी पर चिट्ठी पर अखिलेश यादव ने कहा कि सोए हुए लोग भी जाग गए. जिन्होंने प्रमुख सचिव, मुख्यमंत्री पर रिश्वत के आरोप की चिट्ठी लिखी थी, उसमे क्या हुआ? अखिलेश ने कहा कि हम तो बच्चों को अपने पैसे से लैपटॉप दे रहे हैं. हम पर टोटी का आरोप लगा रहे हैं. सरकार जाने के बाद यही अधिकारी आपके आवास से चिलम ढूढ़ के लाएंगे. उन्होंने कहा कि जनता के बीच जाएंगे जनता जवाब देगी.

अधिक राज्य की खबरें