टैग:maharashtra#,flood#,Sharad Pawar#,yogi
महाराष्ट्र : कोल्हापुर-सातारा में बाढ़ का कहर, मुख्यमंत्री और शरद पवार दौरे पर
कोल्हापुर व सातारा में बाढ़ का कहर जारी है



मुंबई: कोल्हापुर व सातारा में बाढ़ का कहर जारी है। शनिवार को मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस एवं राकांपा अध्यक्ष यहां बाढ़ पीड़ितों से मिल रहे हैं। बाढ़ पीड़ितों को बचाने के लिए यहां 41 एनडीआरएफ, नौसेना और कोस्टगार्ड की टीमें कार्यरत हैं। सरकार ने बाढ़ पीड़ितों को शनिवार से नगद स्वरूप में आर्थिक मदद दिए जाने का निर्णय लिया है। बाढ़ की वजह से बाधित गांवों की बिजली कट होने की स्थिति में यह निर्णय लिया गया है।  

महाराष्ट्र के कोल्हापुर व सातारा जिले में 4 अगस्त से हो रही मूसलाधार बारिश से पंचगंगा, भोगावती, कृष्णा व वारणा नदियों में बाढ़ आ गई है। पूरे मानसून का औसतन 124 फीसदी बारिश कोल्हापुर में और 181 फीसदी बारिश सातारा में हुई है। इससे इन दोनों जिलों में 12 तहसीलों के 329 गांव बाढ़ की चपेट में हैं। इन गांवों से अब तक 2 लाख 52 हजार 813 लोगों को तथा 50 हजार से अधिक जानवरों को सुरक्षित स्थल पर पहुंचाया गया है। बाढग्रस्त इलाकों में पंजाब, ओडिशा, गुजरात राज्यों की एनडीआरएफ (राष्ट्रीय आपदा राहत टीम) काम कर रही थी। शनिवार को विशाखापट्टनम से 15 टीम पहुंची हैं। शुक्रवार से ही शिरोल जिले में एनडीआरएफ, एसडीआरएफ व कोस्टगार्ड की टीम काम कर रही है। शिरोल में पंचगंगा नदी का पानी कम नहीं हो रहा है। यहां गांव के गांव पानी में डूब गए हैं। 

मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस शनिवार को सांगली में बाढ़ पीड़ितों से मिले हैं। उन्होंने राजस्व मंत्री चंद्रकांत पाटील एवं गिरीश महाजन के साथ जिलाधिकारी के साथ बैठक की है और राहत व बचाव कार्य का जायजा लिया है। मुख्यमंत्री ने बाढ़ पीड़ितों को तत्काल नगद आर्थिक मदद दिए जाने का आदेश दिया है। राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष शरद पवार ने सातारा में आंबेगांव का दौरा किया है। शरद पवार के साथ विधानपरिषद के विपक्षी नेता धनंजय मुंडे एक करोड़ रुपये के जीवनाश्यक सामान बाढ़ पीड़ितों को पहुंचा रहे हैं। यहां मदद व बचाव कार्य में स्वयंसेवी संगठन लगे हुए हैं।

अधिक राज्य की खबरें