2025 तक 10 मे से बस 4 लोगों के पास ही होगी नौकरियां
कॉन्सेप्ट फोटो



Report :- वैभव तिवारी, लखनऊ

नौकरियों का मुद्दा तो आज से नही बल्कि कई समय से चलता आ रहा है, जब से देश आजाद हुआ है, तब से नौकरी का मुद्दा तो मानो खूंटा डाल के बैठा है, हर साल इस देश की आबादी बढ़ती जाती है, और नौकरियां काम होती जाती है, पर ज़रूरी नही की हर बार कम नौकरी का कारण आबादी ही हो, जैसे जैसे समय आगे बढ़ता रहा है, वैसे वैसे विज्ञान भी तरक्की करता आ रहा है, वैसे वैसे इंसान का काम और आसान होता जा रहा है, और आसान काम के साथ साथ इंसान के काम भी सिमटता जा रहा है, टेक्नोलॉजी के कारण, अब जो काम करने में 10 इंसान लगते थे, वही काम, अब एक इंसान मशीन के द्वारा कर ले जा रहा है।

 जिस कारण रोजगार में कमी आना शुरू हो गयी थी, ठीक उसी कोरोना में lockdown के दौरान मशीनों  का काम और भी ज़्यादा हो गया था, जिससे ये अनुमान लगाया जा रहा है कि भविष्य में और भी ज़्यादा नौकरियां जाना तय है। 


एक सर्वे के मुताबिक लोगों के अंदर ये डर बसा हुआ है कि उनकी नौकरी जाना तय है, और वह उस घबराहट को दिखाते हुए, सरकार से इस बात की गुहार लगा रहे है, की वह सरकारी नौकरी करने वालों की नौकरियों को बचाये, हालांकि ज़्यादातर कर्मचारी खुद को नई तकनीक के साथ समय के साथ चलने के लिए तैयार है, और वह नई नई तकनीक को सीखने की पूरी कोशिश में भी लगे हुए है। बताते है है कि AI यानी artificial intelligence यानी मशीनों द्वारा बना हुआ एक इंसानी दिमाग, जिसपर निर्भर होने के कारण, कम से कम 8 करोड़ नौकरियों को नुकसान हुआ था। इसी तरह से 2025 को ले कर की हुई भविष्यवाणी लोगों के अंदर डर बैठा रही है।

(देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते है)

अधिक बिज़नेस की खबरें