अपने सेहत को स्वस्थ बनाने के लिए इन चीजों को न करें अनदेखा
फाइल फ़ोटो


किडनी हमारी बॉडी का अहम अंग है, किड हैनी का मुख्य कार्य ब्लड से अपशिष्ट पदार्थ और अतिरिक्त तरल पदार्थ को छानकर ब्लड को साफ करना और अपशिष्ट पदार्थों को मूत्र के रास्ते बहार निकालना है। स्वस्थ किडनी हीं स्वस्थ शरीर के निर्माण में योगदान देती है। कुछ बीमारियों जैसे ब्लड प्रेशर और शुगर से पीड़ित लोग जो दवाईयों का अधिक सेवन करते हैं उनकी किडनी प्रभावित होने का खतरा अधिक रहता है, इसलिए किडनी का समय पर चेकअप जरूर कराएं।
अगर शुरूआत में ही किडनी की परेशानी का पता लग जाए तो किडनी डिसऑर्डर से बचा जा सकता है। किडनी की जांच करने के लिए साल में एक बार मेडिकल जांच जरूर कराएं। किडनी में जब खराबी होती है तो बॉडी में उसके संकेत दिखना शुरू हो जाते हैं बस आपको उन्हें पहचानने की जरूरत है। आइए जानते हैं कि किडनी खराब होने से बॉडी में कौन से संकेत दिखते हैं।

टखनों और पिंडली में सूजन होना

जब किडनी में कुछ खराबी होती है तो बॉडी में सोडियम बनना शुरू हो जाता है। यह सोडियम टखनों और पिंडली की सूजन कर देता है। किडनी की परेशानी होने पर आंखों और चेहरे में भी सूजन देखी जा सकती है। किडनी की वजह से सबसे ज्यादा सूजन हाथ-पैर, टखनों और पैरों में होती है।

थकान और कमजोरी भी हो सकती है-

अक्सर आपको थकान या कमज़ोरी रहती है तो आपको किडनी की समस्या हो सकती है। किडनी में खराबी की वजह से खून में विषाक्‍त पदार्थों का निर्माण होने लगता हैं जो बॉडी को कमजोर करते हैं और थकान महसूस होती है।

भूख कम लगना-

शरीर में विषाक्त पदार्थों और अपशिष्ट के इकट्ठा होने से भी भूख कम लगती है जिससे वजन कम हो सकता है। कम भूख लगने की वजह से मतली और उल्टी हो सकती है। यह एक खतरनाक संकेत हो सकता है।

यूरीन ज्यादा आना-

एक हेल्दी इनसान को दिन में 6 से10 बार पेशाब आता है, ज्यादा पेशाब आना किडनी खराब होने का संकेत हो सकता है। किडनी की समस्या पर बार-बार पेशाब आता है। कुछ लोगों के पेशाब में खून भी आ सकता है। किडनी की खराबी के कारण रक्त कोशिकाएं मूत्र में रिसने लगती हैं।

स्किन का डैमेज होना-

सूखी और खुजली वाली स्किन किडनी डिसऑर्डर से जुड़ा संकेत हो सकता है। किडनी में खराबी की वजह से कि़डनी बॉडी से विषाक्त पदार्थों को बाहर नहीं निकाल पाती और वो खून में जमा होने लगते हैं जिससे स्किन में खुजली, सूखापन और दुर्गंध आने की समस्या हो सकती है। 

अधिक सेहत/एजुकेशन की खबरें