यूरोपीय यूनियन के सांसद जम्मू कश्मीर में हालात का लेंगे जायजा
गौरतलब है कि पांच अगस्त को आर्टिकल-370 के हटने के बाद कश्मीर का दौरा करने वाला यह पहला विदेशी प्रतिनिधिमंडल है।


श्रीनगर: जम्मू कश्मीर से आर्टिकल 370 हटने के बाद पहली बार यूरोपीय यूनियन के सांसदों का एक प्रतिनिधिमंडल भारत पहुंचा और कश्मीर के हालात का जायजा लिया। इससे पहले मंगलवार को यूरोपियन यूनियन के सांसद डल झील भी गए थे। गौरतलब है कि पांच अगस्त को आर्टिकल-370 के हटने के बाद कश्मीर का दौरा करने वाला यह पहला विदेशी प्रतिनिधिमंडल है।

​आपको बता दें कि कल मंगलवार को यूरोपीय यूनियन के सांसदों का यह प्रतिनिधिमंडल श्रीनगर पहुंचा था. प्रतिनिधिमंडल यहां के एक पांच सितारा होटल में पहुंचा। इसके बाद उन्हें बादामी बाग में सेना के 15-कोर मुख्यालय में ले जाया गया, जहां सेना के शीर्ष कमांडरों ने उन्हें कश्मीर की स्थिति के बारे में जानकारी दी।

15 कॉर्प्स हेडक्वॉर्टर पर यूरोपीय सांसदों के प्रतिनिधिमंडल के साथ बैठक में ब्रीफिंग के दौरान सुरक्षाबलों ने उन्हें कश्मीर घाटी में आतंकवाद को बढ़ावा देने में पाकिस्तान की भूमिका की जानकारी दी, सुरक्षाबलों ने आतंकवादियों को भारत में भेजने में पाकिस्तानी सेना की भूमिका के बारे में भी बताया। यूरोपियन सांसदों ने मंगलवार को डल झील की सैर का भी आनंद लिया. 

यूरोपियन यूनियन के सांसदों ने इससे पहले सोमवार को पीएम नरेंद्र मोदी और एनएसए अजित डोभाल से मुलाकात की.  पीएम मोदी ने यूरोपियन संसद के सदस्यों से बातचीत के दौरान पाकिस्तान का नाम लिए बिना उस पर निशाना साधा.

पीएम मोदी ने कहा कि आतंकवादियों का समर्थन या प्रायोजित करने वाले या ऐसी गतिविधियों और संगठनों का समर्थन करने वाले या नीति के रूप में आतंकवाद का इस्तेमाल करने वालों के खिलाफ तत्काल कार्रवाई की जानी चाहिए। आतंकवाद के खिलाफ जीरो टॉलरेंस होना चाहिए. 


अधिक देश की खबरें