यूपी : धर्मांतरण कराने वाले आरोपियों पर योगी सख्त, NSA की कार्रवाई के निर्देश, जब्त होगी संपत्ति 
प्रतीकात्मक फोटो 


लखनऊ : उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने धर्मांतरण मामले सख्त रुख अख्तियार किया है. यूपी एटीएस ने धर्मांतरण कराने वाले दो लोगों को गिरफ्तार किया है. पकड़े गए आरोपियों ने कई बड़े खुलासे किये हैं जिसके बाद प्रदेश और जांच एजेंसियां हैरान रह गई है. सीएम योगी ने मामले पूरी जानकारी लेने के बाद आरोपियों के खिलाफ गैंगस्टर एक्ट और NSA लगाने के साथ ही उनकी संपत्ति जब्त करने के निर्देश दिए हैं.

आरोपियों ने किये कई गंभीर खुलासे
बता दें कि यूपी एटीएस ने इस पूरे मामले के मुख्य आरोपी समेत दो लोगों को दिल्ली के जामिया नगर क्षेत्र से इलाके से गिरफ्तार किया है. यूपी एटीएस ने धर्मांतरण की साजिश पीछे पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई का हाथ माना है. एटीएस को उसके साथ आईएसआई के फंडिंग के सबूत भी मिले हैं. पकड़े गए आरोपियों के मुताबिक उन्होंने अबतक 1000 लोगों का धर्मांतरण कराया है.

एडीजी प्रशांत कुमार ने दी जानकारी 
इस मामले में एडीजी प्रशांत कुमार ने सोमवार को जानकारी देते हुए कहा कि डासना के मंदिर में जबरन घुसने की कोशिश करने वाले दो लोगों को पुलिस ने 2 जून को गिरफ्तार कर लिया था. हिरासत में लिए गए आरोपियों के नाम विपुल विजयवर्गीय और काशिफ है. पुलिस पूछताछ में दोनों बताया कि बड़े स्तर पर धर्म परिवर्तन का रैकेट चल रहा है. जिसके बदले वह रुपया भी देते हैं.

1000 लोगों का कराया धर्म परिवर्तन
पूछताछ में आरोपियों से पता चला कि उन्होंने अब तक 1000 से अधिक लोगों का धर्म परिवर्तन कराया है. धर्म परिवर्तन नहीं करने पर वह लोगों को डराते धमकाते थे. इस खेल गौतम नाम के शख्स का भी नाम सामने आया है जो बाटला हाउस, जामिया नगर का रहने वाला है. गौतम ने खुद भी अपना धर्म परिवर्तन किया है. मामले का खुलासा होने के बाद इसके साथी जहांगीर आलम की गिरफ्तारी की गई.



अधिक राज्य/उत्तर प्रदेश की खबरें