क्या हैं चीनी कंपनी के गिरने के मायने? क्या होगा दूसरे देशो पे भी इसका असर ?
Buildings


हाल ही के दिनों में कंपनी के खिलाफ कई घर खरीदने वालों ने मुकदमें दायर किए हैं. वे उन अपार्टमेंट्स के पूरे निर्माण का इंतजार कर रहे हैं, जिनके लिए वे आंशिक रूप से भुगतान कर चुके हैं. कंपनी को अरबों डॉलर के बिल चुकाने है। 

सालों में ऐसी कोई एक कंपनी तैयार होती और इतनी बड़ी हो जाती है कि सरकारों के मन में भी डर पैदा कर देती हैं. उन्हें लगता है कि कंपनी असफल होती है, तो व्यापक अर्थव्यवस्था का हाल क्या होगा. इसी तरह का एक उदाहरण चीन की रियल एस्टेट कंपनी एवरग्रैंड है, जिसे दुनिया की सबसे ज्यादा कर्ज में डूबी रियल एस्टेट कंपनी भी कहा जा रहा है. चीन से उठा मुद्दा कई देशों के लिए आर्थिक चिंता का कारण बन गया है. आंकड़े बताते हैं कि कंपनी 30 हजार करोड़ डॉलर से ज्यादा कर्ज में डूबी हुई है, कंपनी के कई प्रोजेक्ट्स बीच में अटके हुए हैं और कई सप्लायर्स ने निर्माणकार्य रोक दिया है. अब हालात ये हो गए हैं कि कंपनी अपने बकाया बिल संपत्ति बेचकर चुका रही है. अब समझते हैं कि इस कंपनी पर आए इस आर्थिक संकट का कारण क्या है और इसका असर दुनिया पर क्या होगा?



अधिक विदेश की खबरें