इस शहर में दबा हुआ अरबों खरबों का सोना, निकालने के लिए काटे जाएंगे पेड़
कॉन्सेप्ट फोटो


रिपोर्ट :- वैभव तिवारी , लखनऊ

मध्य प्रदेश और उत्तर प्रदेश के बॉर्डर पर स्तिथ एक जिला है, जिसका नाम सिंगरौली है, सतना के रास्ते पर पड़ने वाला ये क्षेत्र, की पहचान ऊर्जा का उत्पादन और साथ ही साथ कोयले के उत्पादन करने वाले शहर के नाम से जाना जाता है, कहा जा रहा है।

 कुछ ही समय मे ये शहर सोने की खदान के नाम पर देश का सबसे बड़ा शहर माना जायेगा, उसका कारण है कि , archaelogist ने पता लगाया है, की सिंगरौली की इस जमीन के नीचे 7.2 मिलियन तन सोने की खदान है, और बहोत ही जल्द MP सरकार इसकी नीलामी भी करवाएगी, जिसमे इसकी मिंनिंग का काम भी शुरू होगा, बताया जा रहा है इसके बाद से सिंगरौली को सोने की खदान का गढ़ माना जायेगा, आप को बता दे, की सिंगरौली में सोने की 2 खदान को स्थापित भी कर दिया गया है, एक का नाम चितरंगी और दूसरी का चकरिया है। आप को बता दें कि इन सभी सोने की खदानों को ब्लॉक के हिसाब से बांटा जाएगा। और फिर इसकी नीलामी भी शुरू की जयगी।


इस बात से सिंगरौली की जनता और वहां के खनिज अधिकारी बहुत ही खुश है, उनका मानना है कि उस वजह से सिंगरौली में रोजगार की बहार आ जायेगी, और इसी के साथ साथ, सिंगरौली जो कि एक छोटा सा जिला है, उसका नाम सम्पूर्ण देश में फैल जाएगा।

(देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते है)

अधिक राज्य/उत्तर प्रदेश की खबरें